hindi story on fear

युवा भैंस और पिता की सीख। Story on fear in Hindi

युवा भैंस और पिता की सीख।

Story on fear in hindi


एक दिन, अफ्रीका के मैदानी इलाकों में, एक युवा भैंस अपने पिता के पास गया और उनसे पूछा कि क्या इस जंगल में ऐसा कोई है जिसे उन्हें डरना चाहिए।

“केवल शेर, मेरे बेटे।”उसके पिता ने जवाब दिया।

“ओह हाँ, मैंने शेरों के बारे में सुना है। अगर मैं कभी भी उन्हें देखूंगा, तो मैं जितना तेज़ दौड़ सकता हूं उतना तेज़ और दौड़ूंगा, ”युवा भैंस ने कहा।

पिता ने कहा, “नहीं, यह सबसे बुरी चीज है जो उस परिस्थिति में तुम कर सकते हो।”

“पर क्यूं? वह बहुत डरावना होता हैं और मुझे मारने की कोशिश करेगा।”

पिताजी मुस्कुराए और उसे समझाया, “मेरे बेटे, यदि तुम भागोगे, तो शेर तुम्हारा पीछा करेगा और पकड़ लेगा। और वह जब ऐसा करेगा, तब वह तुम्हारी असुरक्षित पीठ पर कूदेगा और तुम्हें नीचे गिरा देगा।”

युवा भैंस ने पूछा, “तो फिर मुझे क्या करना चाहिए?”

“यदि तुम्हें कभी शेर दिखाई दे, तो अपनी जगह पर डटे रहना, ताकि उसे पता चले कि तुम उससे डरते नही हो। यदि वह दूर नहीं जाता है, तो उसे अपने नुकीले सींग दिखाना और अपने पैर को ज़मीन पर पटकना। और अगर इससे बात ना बने तो धीरे धीरे उसकी और आगे बढ़ना। और फ़िर भी काम ना निकले तो अपनी पूरी शक्ति लगाकर उसके ऊपर हमला करना।”

“यह तो पागलपन है, मुझे बहुत डर लगेगा। अगर वह मुझ पे वापस हमला करेगा तो क्या होगा?” चकित हुए युवा भैंस ने कहा।

“अपने चारों ओर देखो, मेरे बेटे। तुम्हे क्या दिखता है?”

युवा भैंस ने अपने चारों ओर देखा। वहा पर नुकीले सींग और विशाल कंधे से सशस्त्र 200 भीमकाय जानवर थे।

“अगर तुम्हे कभी डर लगे, तो याद रखना की हम तुम्हारे साथ हैं। यदि तुम अपने डर से घबराकर दौड़ते हो, तो हम तुम्हारी जान नही बचा पाएंगे। लेकिन यदि तुम उस पर हमला करोगे, तो हमें तुम्हारे पीछे पाओगे।”

युवा भैंस ने एक गहरी सांस ली और चिल्लाया।

“धन्यवाद पिताजी, मुझे लगता है कि मैं समझ गया हूँ।”

हम सब की दुनिया में भी शेर होते हैं।

जीवन के कुछ पहलू होते हैं, जो हमें डराते हैं और हमें दौड़ाना चाहते हैं, लेकिन यदि हम ऐसा करते हैं, तो वे हमारा पीछा करेंगे और हमारे जीवन पर कब्ज़ा कर लेंगे। और हम बुज़दिलों की तरह डर-डर कर काम करेंगे, जो हमें अपनी पूरी क्षमता तक नहीं पहुंचने देंगे।

Moral of the story

इस समय आप किस डर से भाग रहे है?

अपने डर का सामना करें। उन्हें दिखाए कि आप डरते नहीं हैं।

उन्हें दिखाए कि आप वास्तव में कितने शक्तिशाली हैं। और साहस और हिम्मत के साथ उन पर आक्रमण करें,

यह जानकर कि ऊपरवाला आपके साथ हैं और आपको प्रोत्साहित कर रहा हैं।

Thanks for visiting HindiMonk.com

कृपया कमेंट करके हमें बताइए कि आपको story on fear in hindi कैसी लगी।

Read More:

Posted in hindi moral stories, Hindi Stories, हिंदी कहानियां and tagged , , , , , , .

3 Comments

  1. Pingback: पिंजरे में बंद तोता और बेमिसाल उपदेश। Tota ki kahani se sikh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.