अल्बर्ट आइंस्टीन की कहानी

आइंस्टीन की जिंदगी से जुडी 5 रोचक कहानियाँ। 5 interesting stories about Albert Einstein

आज हम अल्बर्ट आइंस्टीन की जिंदगी से जुड़े 5 मजेदार और रोचक कहानियों के बारे में बात करेंगे।

आइंस्टीन की जिंदगी से जुडी 5 रोचक कहानियाँ।

5 super stories about Albert Einstein

1. बीबी से लड़ाई:

आइंस्टीन और उनकी बीबी के बीच में अक्सर एक बात पर बहस हुआ करती थी,

जब भी आइंस्टीन ऑफ़िस जाने के लिए तैयार होते थे तो उनकी बीबी उन्हें अक्सर टोकती थी कि ” कुछ ढंग के (professional type) कपड़े पहन कर जाओ।”

जिसके जवाब में आइंस्टीन उन्हें कहते थे कि: ” ऑफिस में professional कपड़े पहन कर जाने की क्या जरूरत है वहां तो सब लोग मुझे जानते ही है।”

फिर एक बार जब आइंस्टीन किसी एक महत्वपूर्ण conference के लिये जा रहे थे तो फिर उनकी बीबी ने मौका देख कर उनसे कहा कि

इस बार तो कुछ professional type कपड़े पहन कर जाओ।”

तो इसके reply में आइंसटीन ने कहा कि ” मुझे वहाँ professional कपड़े पहन कर जाने की क्या जरूरत है, मुझे तो वहाँ कोई नही जानता।”

2. थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी (Theory of relativity):

मीडिया वाले अक्सर आइंस्टीन को उनकी विश्वप्रसिद्ध ” द थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी” को समजाने के लिए कहते थे, जिसके जवाब में उन्होंने एक बार कहा था कि:

” अगर आप किसी इंसान का हाथ एक गर्म तवे पर सिर्फ एक मिनट के लिए रखेंगे तो उस इंसान को वह एक मिनट एक घण्टे जैसा लगेगा।”

” पर उसी इंसान को अगर आप एक घण्टा किसी खूबसूरत लड़की साथ बिताने के लिये कहोगे तो उसी इंसान को वह एक घण्टा एक मिनट जैसा महसूस होगा”

“बस इसी का नाम है थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी।”

3. आइंस्टीन का इंटरव्यू लेने का अंदाज़:

दोस्तों, आइंस्टीन के इंटरव्यू लेने का अंदाज़ भी बिल्कुल अलग था, जिसके बारे में एक कहानी बहुत मशहूर है-

आइंस्टीन कई बार साक्षात्कार (interviewee) को एक कॉफी शॉप में ले जाते थे फिर दो कॉफी का ऑर्डर देते थे। और फिर सामने वाले से अलग अलग प्रश्न पूछने लगते थे।

जब कॉफी आ जाती थी तो वह पहले कॉफी की एक चुस्की लगाते थे,

और फिर साक्षात्कार को पूछते थे कि “मुझे लगता है कि कॉफी में थोड़ी सी चीनी कम है, तुम्हें क्या लगता है?

और अगर सामने वाला बिना कॉफी को चखे हामी भरता तो आइंस्टीन उसे रिजेक्ट कर देते थे।

उनका कहना था कि “वह ऐसे लोगों को नौकरी पर रखना चाहेंगे जो किसी की कहि- सुनी बातों पर खुद आजमाये बिना विश्वास ना करतें हो, फिर चाहे वह खुद ही क्यों न हो।”

4. जब Einstein मिले Charlie Chaplin से।

साल था 1930 का, जब बीसवीं सदी के सबसे महान इंसानों में से दो इंसान मिले।

तब Mr. Einstein ने Mr. Chaplin से कहा था कि-

मुझे तुम्हारे बारे में जो सबसे अच्छी बात लगती है वो यह है कि

“तुम अपनी movies में कुछ बोलते नही हो, फिर भी लोग सब कुछ समझ जाते है।”

तब Mr. Chaplin ने reply दिया कि-

और मुझे जो तुम्हारे बारे में सबसे अच्छी बात लगती है वो यह है कि

“तुम बोलते तो बहुत कुछ हो, लेकिन पूरी दुनिया कुछ समझ नही पाती, फिर भी पूरी दुनिया तुमको इतना पसंद करती है।

5. पाई (π) की वैल्यू क्या है?:

एक बार एक पत्रकार ने आइंस्टीन से पूछा : “सर, क्या आपको पता है कि पाई(π) की वैल्यू क्या है?

जिसके जवाब में आइंस्टीन ने कहा:”सच कहूं तो मुझे आपके सवाल का जवाब नहीं पता।

यह सुनकर पत्रकार चौंक गया और उसने पूछा: “पर क्यों नही पता?”

आइंस्टीन ने उत्तर दिया: “मैं ऐसे सवालों के जवाब अपने दिमाग में संभाल कर नही रखता जिनके जवाब मुझे किसी किताब में से मिल जाते है।”

Thank you for visiting HindiMonk.com

Read More:

Posted in hindi moral stories, Hindi Stories, हिंदी कहानियां and tagged , .

2 Comments

  1. Pingback: कृष्ण अर्जुन और ब्राह्मण। जीवन की सीख देने वाली कहानी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.