बहस जितने का सबसे प्रभावी फंड़ा

बहस जितने का सबसे प्रभावी फंडा। how to win an argument in hindi

बहस जितने का सबसे प्रभावी फंडा। how to win an argument in hindi

दोस्तों, आज की यह पोस्ट Dale Carnegie की बुक How to win friends and influence people से प्रेरित है।

क्या आपको पता है किसी भी दलील यानी कि बहस को जीतने का सबसे बढ़िया तरीका कौन सा है?

जैसे कि तथ्यों का प्रयोग करना, सामने वाले को सवाल पूछते रहना, लॉजिक का इस्तेमाल करना वगैरह….

आज मैं आपको बहस जितने का मेरा फ़ंडा बताऊंगा-

“किसी भी बहस को जितने का सबसे अच्छा तरीका है कि बहस ना करना।”

पर क्यों? क्यों आपको बहस जितने के लिये बहस से दूर रहना चाहिये?

तो होता क्या है…

1. बहस की चिंगारी:

आप किसीसे किसी विषय पर बात कर रहे होते हैं, और अचानक सामने वाला कुछ ऐसी बात बोल देता है जिससे आप सहमत नहीं हो। तो आप उस आदमी को बोल देंगे कि भाई तुम जो बोल रहे हो वह गलत है, सच्चाई तो यह है….

और फिर सामने वाला आपके साथ “जैसे को तैसा” का व्यवहार करेगा। (जैसे को तैसा का व्यवहार के बारे में जानने के लिये यहां क्लिक करें)

यानी कि अगर आपने उसे गलत ठहराया है तो वह भी आपको गलत ठहरायेगा।

या तो फिर इसका उल्टा भी हो सकता है, यानी कि आप किसीसे किसी विषय पर बात कर रहे होते हो, और अचानक आप कुछ ऐसी बात बोल देते है जिससे सामने वाला सहमत नहीं हो। तो वह आदमी आपको को बोल देगा कि भाई तुम जो बोल रहे हो वह गलत है, सच्चाई तो यह है….

और फिर आप भी सामने वाले के साथ “जैसे को तैसा” का व्यहवार करने लगेंगे।

यानी कि अगर उसने आपको गलत ठहराया है तो आप भी उसको गलत ठहराने की कोशिश करेंगे।

और इस तरह से बहस की चिंगारी जल उठेगी।

2. घमासान युद्ध:

फिर आप दोनों एक दूसरे के ऊपर शब्दों के बान चलाएंगे।

तथ्यों का उपयोग करेंगे, सामने वाले को याद दिलायेंगे की वह इससे पहले भी किसी दूसरे विषय पर गलत साबित हो चुका है। आप सामने वाले से ऊंची आवाज़ में बातें करने लगते है। कभी कभी तो आप सामने वाले का मज़ाक भी उड़ाने लगते है।

पर इसका नतीजा क्या निकलेगा?

3.परिणाम:

सामान्य तौर पर किसी भी बहस के दो परिणाम आ सकते है,

A.” या तो आप हारते है और सामने वाला जीतता है,

B. या तो आप जीतते है और सामने वाला हारता है।”

चलो, हम यह मान कर चलते है कि आप बहस करने में सबसे माहिर है और इस वजह से आप बहस को जीत जाते है।

पर क्या आप वाकई में बहस जितने से सामने वाले इंसान को जीत सकोगे?

मुझे तो नहीं लगता, पर क्यों?

क्योंकि जब आप बहस जीतते हो तब आप यह साबित कर रहे है कि-

1. सामने वाले को किसी विषय के बारे में जानकारी कम है। यानी वह आपसे कम ज्ञानी है।

2. सामने वाला जो बोल रहा है वह गलत है, यानी कि आप उसको जूठा कह रहे हो।

और आप किसीसे यह उम्मीद नही कर सकते कि आप उसे कम ज्ञानी और जूठा कहेंगे और इस वज़ह से वो आपको सम्मान देगा।

आप सामने वाले को नीचा दिखाकर कभी भी उसकी नज़रों में ऊपर नही आ सकते।

जब आप सामने वाले को सबके सामने गलत ठहराते है तो उसके अंदर एक अजीब सी फिलिंग अंदर रह जाती है।

और अगर फिर कभी उसे मौका मिलता है तो (जो कि मिलता ही है) वह भी आपको गलत ठहराकर बदला लेने की कोशिश करेगा। यानी की वह दुबारा आपके साथ बहस करेगा।

और यह सिलसिला जीवनभर ऐसे ही चालू रहता है।

दोस्तों, मैंने यह नोटिस किया है कि कई बार तो हम लोगोसे ऐसी छोटी-छोटी बातों के लिये बहस करते है जो हमारे लिए मायने ही नही रखती। जैसे कि बाहुबली 2 ने कितनी कमाई की, यह गाना कौन सी फ़िल्म का है, परसों कितने बजे बारिश हुई थी, सूर्यमंडल में कितने ग्रह है, वगैरह।

अब जरा सोचिये कि अगर हम सामने वाले से ऐसी छोटी छोटी बातों पर बहस करते रहेंगे तो उसके फायदे और नुकसान क्या होंगे?

चलो मान लेते है कि आपने सामने वाले को यह बात मनवा ली कि बाहुबली 2 ने 1700 करोड़ कमाये थे तो आपको उससे क्या फायदा? क्या आपको इससे बाहुबली 3 में कोई रोल मिल जाएगा?

और इससे आपको नुकसान क्या जाएगा?

जरा सोचिये, उस बहस में आपका कितना समय बर्बाद होगा? आप अगर चाहते तो उस समय का उपयोग उस व्यक्ति के साथ ऐसी बातें करने में लगा सकते थे, जिसमें आप दोनों को मजा आता और इससे आप दोनों के संबंध भी मजबूत होते।

पर नही आपको तो बस बहस करने में ही मजा आता है।

कभी कभी तो हमें पता होता है कि हम गलत है, फिर भी हम बहस करते रहते है ताकि सबके सामने आप को जूठा होने की शर्मिंदगी ना उठानी पडे।

तो बात चाहे जो भी हो, पर क्या आपको लगता है कि किसीसे बहस करने का कोई फायदा है?

मुझे तो नही लगता, क्योंकि…

बहस जितने का सबसे प्रभावी फंडा जो मैंने सीखा है वह यह है कि- आप कभी किसीसे बहस ना करें। क्योंकि जब आप बहस जीतते है तो सामने वाले को हार जाते है।

Thanks for visiting HindiMonk.com

Posted in Hindi Stories, हिंदी कहानियां and tagged , .

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.