ऐलिस इन वंडरलैंड स्टोरी इन हिंदी

एलिस एंड मैड हैटर इन वंडरलैंड स्टोरी इन हिंदी।

अपने जीवन में महान कार्य को पूरा करने के पहले कदमों में से एक है- अपने अतीत की नकारात्मक चीजों पर ध्यान देना बंद करना। और अपनी वर्तमान ताकत, सफलताओं और उपलब्धियों का सावधानीपूर्वक आकलन करना।

एलिस इन वंडरलैंड में एक वार्तालाप है जो इस अवधारणा को बखूबी बयां करता है।

ऐलिस इन वंडरलैंड

ऐलिस: मैं जिस जगह से आई हूँ, वहाँ के लोग इस बात का अध्ययन करते हैं कि वे कौन सी चीजों को करने में अच्छे नही है, ताकि वें उन चीजों को कर सकें जिनमें वें अच्छे हैं।

मैड हैटर: हम तो वंडरलैंड में केवल गोल-गोल घूमते रहते हैं, लेकिन हर बार हम वही पहुँच ते हैं जहां से हमने शुरू किया।

क्य तुम मुझे अपनी बात समझाने का कष्ट करोगी?

एलिस: ठीक है, बड़े लोग हमें कहते है कि पता लगाओ कि तुमने कौन सी चीज़ गलत की और फिर उस चीज़ को दुबारा कभी मत करो।

मैड हैटर: अजीब बात है! मुझे तो लगता है कि किसी चीज़ के बारे में जानने के लिए, आपको उसका अध्ययन करना होगा।

और जब आप उसका अध्ययन करते हैं, तो आप उसमें बेहतर बन जाते है।

लेकिन, उन चीज़ो का अध्ययन करके उसमें बेहतर बनने का क्या फ़ायदा, जिसे तुम दुबारा नही करने वाली हो?

एलिस: पता नहीं, लेकिन कोई भी हमें उन चीजों का अध्ययन करने को नही कहता जिसे हम अच्छी तरह से करना जानते है। हमें केवल गलत चीजों से सीखना होता है।

परंतु हमें अन्य लोगों द्वारा की जाने वाली सही चीजों का अध्ययन करने की अनुमति है। और कभी-कभी हमें उनकी नकल करने के लिए भी कहा जाता है।

मैड हैटर: यह तो गलत बात है!

एलिस: बिल्कुल ठीक कहा आपने, श्रीमान हैटर। मैं एक उलटी दुनिया में रहती हूँ।

ऐसा लगता है कि मुझे पहले कुछ गलत करना है, ताकि मैं यह सिख सकू की मुझे क्या नहीं करना है।

और फिर मुझे ऐसी चीज़े नहीं करनी है जो मुझे नहीं करनी चाहिए,

पर मुझे लगता है कि मुझे पहली बार में ही उन चीजों को करना चाहिए जिसमें मैं अच्छी हूँ। है ना?


अपने जीवन की सकारात्मक घटनाओं पर ध्यान दें, और आपनी असफ़लता के बारे में लगातार सोचकर अपनी क्षमता को सीमित करना छोड़ दें।

Thanks for visiting HindiMonk.com

तो कैसी लगी आपको ऐलिस एंड मेड हैटर इन वन्डरलैंड की कहानी?

Posted in hindi moral stories, Hindi Stories, हिंदी कहानियां and tagged , , , .

One Comment

  1. Pingback: युवा भैंस और पिता की सीख। Story on fear in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.