विल स्मिथ का “ key to life” प्रेरणादायक भाषण। A short motivational speech in Hindi

2005 में निकलोडियन किड्स चॉइस अवॉर्ड्स के दौरान विल स्मिथ ने “key to life” नाम से एक बहुत अच्छी Motivatiobal speech दी थी।आज मैंने HindiMonk.com पर उसी प्रेरणादायक भाषण का हिंदी अनुवाद लिखा है, उम्मीद है आपको यह मोटिवेशनल स्पीच पसंद आएगी-

Running and Reading| Hindi Inspirational speech by Will Smith

“Ok Everybody,

मैं आपसे यह उम्मीद करता हूँ, की आज जो मैं बोलने वाला हूं, उसे आप अपनी जिंदगी भर याद रखेंगे। इसलिए मैं चाहता हूं कि आप मुझे ध्यान से सुने।

आज मैं आपको जीवन के दो रहस्य (key to life ) बताने जा रहा हूं। और वो जीवन के दो रहस्य है:

दौड़ना और पढ़ना।

(Running and Reading.)

दौड़ना (Running):

ठीक है, पर दौड़ने और जीवन के रहस्य को क्या लेना देना?

दरअसल, जब आप दौड़ रहे होते है, तब आपके अंदर का वह छोटा सा इंसान आपसे बात करने लगता है और आपसे कहता है- “ओह! मैं थक गया हूँ। मेरे फेफड़े दर्द कर रहे है। मुझे बहुत दुख रहा है। अब ऐसा कोई रास्ता नही है जिसके उपयोग से मैं दौड़ना जारी रख सकूँ।”

और वह छोटा सा इंसान आप पर हावी होने लगता है। और उस छोटे से इंसान की बात सुनकर आप भी आराम करने के वास्ते रुकने के बारे में सोचने लगते है।

अगर आप दौड़ते वक़्त उस छोटे से इंसान को हराना सिख लेते है और अपनी दौड़ को जारी रखते है, तो उसके साथ आप यह भी सिख जाते है कि “जब जिंदगी में मुश्किलें बढ़ जाए तो कैसे आप उन सारी नकारात्मक चीज़ो को नज़रअंदाज़ करके बिना हार माने आगे बढ़ा जाए।”

और अब पढ़ना,

पढ़ना (Reading):

हमारी जिंदगी में पढ़ना इतना जरूरी क्यों है?

क्योंकि, इस दुनिया मे हम सब लोगों से पहले करोड़ों और अरबों लोग इस धरती पर जी चुके है,

इसलिए शायद इस दुनिया में ऐसी कोई समस्या नही होगी, जिसका सामना आपसे पहले भूतकाल में किसी और इंसान ने नही किया हो, और किताबों में न लिखा हो।

(इसलिये,किताबें पढ़ने से आपको फायदा यह होगा कि आपको उन सारी समस्याओं का समाधान मिल जाएगा जिसका आप अभी सामना कर रहे है।)

बोनस अनुवाद:

क्योंकि यह पोस्ट थोड़ी छोटी है इसलिए मैं Will Smith ने दी हुई एक और छोटी सी प्रेरणादायक स्पीच का अनुवाद लिख रहा हूं।

यह स्पीच विल स्मिथ ने अपनी मूवी “ द परस्यूट ऑफ़ हैपिनेस” में दी थी।

द परस्यूट ऑफ़ हैपिनेस फ़िल्म बहुत ही प्रेरणात्मक है, जो कि क्रिस गार्डनर नाम के एक बिज़नेस मैन के जीवन पर आधारित है।

तो उस फिल्म में एक दृश्य ऐसा आता है, जब विल स्मिथ उनके बेटे को कहते है कि-

“तुम्हें अब बास्केटबॉल खेलने में ज्यादा वक्त नहीं बर्बाद करना चाहिए क्योंकि मुझे नही लगता कि तुम कभी एक अच्छे बास्केटबॉल प्लेयर बन पाओगे।”

यह बात सुनकर उनका बेटा निराश हो कर वहा से चला जात है।

अपने बेटे को निराश देख कर स्मिथ को यह अहसास होता है कि उनको अपने बेटे का जी छोटा करने की बजाय उसे खुद के सपनों की रक्षा करना सीखाना चाहिए।

इसलिए वह अपने बेटे के पास जा कर उसे कहते है कि-

“ सुनो, कभी भी किसी इंसान को यह मत कहने दो की तुम कुछ नहीं कर सकते,फिर चाहे वह इंसान मैं ही क्यों न हो।

“अगर तुमने कोई सपना देखा है, तो तुम्हें उसकी रक्षा करनी होगी।”

“दरअसल, जब लोग खुद कोई काम नहीं कर पाते, तब वें लोग तुम्हें भी यह बताना चाहेंगे कि तुम यह नही कर सकते।”

“अगर तुम कोई काम करना चाहते हो, तो बस उसे कर दो।”

HindiMonk.com पर आने के लिए शुक्रिया।उम्मीद हैं आपको यह स्पीच पसंद आई होगी।इसी तरह की नई प्रेरणादायक पोस्ट की ईमेल नोटिफिकेशन पाने के लिये हमें सब्सक्राइब करें।

Real Also:

Posted in Hindi Motivational Speech and tagged , , , , , , , , , , .

4 Comments

  1. Pingback: बेटे का कर्ज। Best Heart touching short stories in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.